Home National गुजरात विधानसभा में देखने को मिला शर्मनाक नजारा, जानने के लिए पढ़े।

गुजरात विधानसभा में देखने को मिला शर्मनाक नजारा, जानने के लिए पढ़े।

41
0
SHARE
वैसे तो विधानसभा में वरिष्ठ नेताओ में लड़ाई अकसर देखने को मिलती है। लेकिन आज तो गुजरात विधानसभा में एक ऐसा नजारा दखने को मिला कि सबके होश उड़ गए। मिली खबर के अनुसार बताया जा रहा है कि गुजरात विधानसभा में माइक उखाड़कर एक भारतीय जनता पार्टी के एमएलए की पिटाई कर दी गई है।
इस वाक्ये पर एक रिपोर्ट के अनुसार सदन में कांग्रेस और बीजेपी के बीच मारपीट और गुंडागर्दी का मामला टीवी पर देखने को मिला। कांग्रेस विधायक प्रताप दुधात बीजेपी के विधायक जगदीश पांचाल को बेल्ट से पीटते नजर आए। इस दौरान दूसरे कांग्रेसी विधायक विक्रम माडम ने भी माइक उखाड़ लिया। घटना के बाद विक्रम माडम एक दिन के लिए और प्रताप पूरे सत्र के लिए सस्पेंड कर दिए गए।
इस प्रकार की हरकत पर कई वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा यह कहा जा रहा है कि यह गुजरात विधानसभा में हुई राजनीति का अब तक का सबसे शर्मनाक वाक्या सामने आया है। इस पर कई वरिष्ठ नेताओं द्वारा भी निंदा की जा रही है। इस मामले पर विस्तार पूर्वक जानकारी देते हुए बता दें कि पहले सदन में जमकर हंगामा हुआ।
फिर कांग्रेस के विधायक ने माइक उखाड़कर बीजेपी के एक विधायक की पिटाई कर डाली। बता दें कि 13 मार्च को भी कांग्रेसी विधायकों ने खूब हंगामा किया था। जिसके बाद स्पीकर ने कांग्रेस के 28 विधायकों को 15 दिन के लिए सस्पेंड कर दिया था।
बता दें कि इस मामले पर बेल्ट और माइक से हुए हमले के बीच मंत्री निर्मला बेन, परेश धानाणी, ठाकोर सहित एक अन्य विधायक घायल हैं। और इस बीच, सस्पेंशन के विरोध में बुधवार को फिर कांग्रेसी विधायकों ने विधानसभा में हंगामा किया।
ठीक इसी इस बीच, निकोल के बीजेपी विधायक जगदीश पंचाल पर अचानक कांग्रेस के विधायक प्रताप दुधाते ने माइक से हमला कर दिया। इसके बाद स्पीकर ने गांधीनगर के डीएसपी को घटना की पूरी जानकारी दी। बता दें कि हंगामा उस वक्त हुआ, जब कृषि मंत्री आरसी फाल्दू अपने विभाग के लिए बजटीय मांग रख रहे थे।
बात कुछ इस प्रकार थी कि कांग्रेस विधायक परेश धानाणी ने किसानों के मुद्दे सरकार से एक सवाल पूछा। वहीं इस सवाल का जवाब देने हेतु कृषि मंत्री चिमनभाई सापरिया खड़े हुए। और उन्होंने 1995 से पहले कांग्रेस शासन का जिक्र कर दिया।फिर क्या था, इसके बाद दोनों पक्ष आमने-सामने आ गए।