Home National आम आदमी पार्टी के विधायकों को बड़ी राहत, जानिए पूरी खबर के...

आम आदमी पार्टी के विधायकों को बड़ी राहत, जानिए पूरी खबर के बारे मे।

50
0
SHARE

आपको बता दें कि इस वक्त की सबसे बड़ी खबर दिल्ली से आ रही है। आपको बता दें कि मारपीट मामले पर बुरी तरह से फंसे आम आदमी पार्टी के विधायको को बड़ी राहत मिल गई है। यदि पिछली बातों पर गौर किया जाए तो आपको बता दें कि सीएम अरविंद केजरीवाल ने सोमवार (19 फरवरी) रात को अपने आवास पर कुछ योजनाओं पर चर्चा के लिए मीटिंग बुलाई थी। इसमें अंशु प्रकाश भी शामिल हुए।

वहीं इस पर अंशु प्रकाश का आरोप है कि यहां उन पर आप के एक विज्ञापन को पास कराने का दबाव डाला गया। जब वह मना करके जाने लगे तो दो विधायकों ने उन्हें कंधे पर हाथ रखकर वहीं बैठा दिया। दोबारा उठे तो गाल पर जोर से मारा। पीठ पर भी घूंसे पड़े और गालियां दी गईं।
आम आदमी पार्टी के कुछ विधायको ने सीएस के साथ मारपीट कर दी थी। जिस पर काफी हद तक बवाल हो गया था। आपको बता दें कि चीफ सेक्रेटरी अंशु प्रकाश ने आम आदमी पार्टी के विधायक अमानतुल्ला खान और प्रकाश जारवाल पर मारपीट का आरोप लगाया था। जिसको देखते हुए दिल्ली में आम आदमी पार्टी के दो विधायक अमानतुल्ला खान और प्रकाश जारवाल चीफ सेक्रेटरी से मारपीट के मामले में गिरफ्तार हुए थे।
वही काफी समय से चल रही तफतीश के बाद आम आदमी पार्टी के विधायको को जमानत मिल गई है। वहीं इसी के साथ दिल्ली के विधायको का कहना है कि इनको आगे कस्टडी की कोई जरूरत नहीं है। बता दें कि आप के दो विधायक अमानतुल्ला और प्रकाश जारवाल को सीएस से मारपीट के आरोप में 20 और 21 फरवरी को गिरफ्तार किया गया था। हालांकि, जारवाल को कोर्ट ने 9 मार्च को ही जमानत पर रिहा कर दिया था।
वहीं इसी मामले पर विशेष रूप से जानकारी देते हुए आपको बता दें कि सोमवार को सुनवाई के दौरान दिल्ली पुलिस ने कोर्ट में स्टेटस रिपोर्ट दाखिल की। इसमें अमानतुल्ला का नाम 12 आपराधिक मामलों में दर्ज होने की बात कही गई है। इनमें से तीन मामलों में उन्हें बरी किया जा चुका है।
वहीं इस बात की गंभीरता को देखते हुए बता दें कि दिल्ली हाईकोर्ट की जस्टिस मुक्ता गुप्ता ने अमानतुल्ला को प्रकाश जारवाल की तरह ही कुछ शर्तों के तहत जमानत दी है। बता देें कि इससे पहले मजिस्ट्रेट कोर्ट ने दोनों विधायकों को जमानत देने से इनकार कर दिया था। कोर्ट का कहना था कि एक अधिकारी से मारपीट को हल्के और रोजमर्रा के मामलों की तरह नहीं लिया जा सकता। जमानत ना देने के पीछे कोर्ट ने दोनों के हिस्ट्रीशीटर होने का तर्क भी दिया था।